मशहूर कोरियोग्राफर सरोज खान का निधन हो गया है। उन्हें सांस लेने में तकलीफ हो रही थी जिसके चलते उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया था। कहा जा रहा है कार्डियक अरेस्ट की वजह से उनकी रात को करीब 1.52 बजे उनकी मौत हो गई। कुछ दिन पहले उनका कोरोना टेस्ट भी कराया गया जिसमें उनकी रिपोर्ट नेगेटिव आई थी। उनकी उम्र 72 साल की थी। उन्होंने बॉलीवुड के कई कलाकारों को डांस सिखाया था। और सरोज खान श्री देवी और माधुरी दीक्षित जैसी बड़ी अभिनेत्री को भी कोरियोग्राफ कर चुकी है।

सांस लेने में उन्हें तकलीफ हो रही थी जिसके चलते उन्हें 20 जून को गुरुनानक अस्पताल में भर्ती कराया गया। जिसके बाद उनकी तबियत में सुधार आ रहा था। गुरुवार को अचानक से उनकी तबियत बिगड़ी और उनका निधन हो गया। शुक्रवार को मालवणी कब्रिस्तान जो की मलाड में स्तिथ है जिसमें उनके पार्थिव शरीर को सुपुर्द-ए-खाक किया गया।

सरोज खान की बॉलीवुड लाइफ 

हम अगर उनके बॉलीवुड लाइफ की बात करे तो आपको बता दे कि सरोज खान ने सैकड़ों गानों को कोरियोग्राफ किया था। 50 के दशक में उन्होंने बतौर बैकग्राउंड डांसर काम करना शुरू किया था । उन्होंने आपनी डांस की ट्रेनिंग कोरियोग्राफर बी. सोहनलाल के साथ ली। 1974 में रिलीज हुई फिल्म गीता मेरा नाम से उन्होंने बतौर कोरियोग्राफर काम करना शुरू किया। परन्तु उनके काम को काफी समय बाद पहचान मिली। उनकी मुखिय फिल्में मिस्टर इंडिया, नगीना, चांदनी, तेजाब, थानेदार, और बेटा है।

सरोज खान कि पर्सनल लाइफ

सरोज खान की अगर पर्सनल लाइफ की बात करे तो आपको बता दे काफी कम लोगो को पता होगा कि उनका असली नाम निर्मला नागपाल था। उनके पिता का नाम किशनचंद सद्धू सिंह और उनके माता का नाम नोनी सिद्धू सिंह था। विभाजन के बाद उनका परिवार पाकिस्तान से भारत आ गया था। सरोज खान 3 साल की उम्र में बतौर चाइल्ड आर्टिस्ट फिल्मों में काम करना शुरू कर दिया था। उनकी पहले फिल्म नजराना थी जिसमे उन्होंने शाम नाम की बच्ची का किरदार निभाया था।

सरोज खान ने पहले मास्टर बी. सोहनलाल से शादी की थी। दोनों की उम्र में 30 साल का अंतर था। शादी के वक्त सरोज खान को उम्र 13 साल थी। सोहनलाल की ये दूसरी शादी थी। पहले शादी में उनके चार बच्चे थे। एक टीवी चैनल के साथ इंटरव्यू के दौरान उन्होंने बताया था कि ‘ मैने अपनी मर्जी से इस्लाम धर्म को अपनाया है। मुझे इस्लाम धर्म से प्रेरणा मिलती है। सरोज खान के शादी के वक्त सोहनलाल ने अपनी पहली शादी के बारे में नहीं बताया। 1963 में सरोज खान के बेटे राजू खान का जन्म हुआ तब उन्हें सोहनलाल के शादीशुदा जिंदगी के बारे में पता चला।

1965 में सरोज खान ने दूसरे बेटे को जन्म दिया लेकिन 8 महीने बाद ही उसकी मृत्यु हो गई। बच्चों के जन्म के बाद सोहनलाल ने अपना नाम देने से इंकार कर दिया। जिसके बाद दोनों के बीच दूरियां बढ़ गई। सरोज की एक बेटी कुकु भी है। सरोज ने दोनों बच्चो की परवरिश अकेले ही की है

If you like us please follow us on below links-

Visit Our Website :- https://www.dhamchik.com

Follow us on facebook:- https://lnkd.in/gNsvNQH

Follow us on YouTube:- https://lnkd.in/gTZZg_N

Follow us on twitter:- https://lnkd.in/gVUWtik

Follow us on Linkdin:- https://lnkd.in/gTktuH8

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here